8 April, 2020
Aarzoo Shayari

Aarzoo Shayari – Aarzoo Hindi Shayari | आरज़ू शायरी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Aarzoo Shayari – तेरे‬ इश्क का कितना हसीन

तेरे‬ इश्क का कितना हसीन एहसास है,
लगता है जैसे तु हर ‪ पल‬ मेरे पास है,
‪मोहब्बत‬ तेरी दिवानगी बन चुकी है मेरी,
और अब जिन्दगी की ‪ आरजू‬ बस तुम्हारे साथ है ।।

काश की मुझे मुहब्बत ना

काश की मुझे मुहब्बत ना होती
काश की मुझे तेरी आरज़ू ना होती
जी लेते यू ही ज़िंदगी को हम तेरे बिन
काश की ये तड़प हमे ना होती

छोड दी हमने हमेशा के

छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी आरजू करना..
जिसे मोहब्बत की कद्र ना हो उसे दुआओ मेक्या मांगना

अब तुझसे शिकायत करना मेरे

अब तुझसे शिकायत करना, मेरे हक मे नहीं,
क्योंकि तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की !!

इंतज़ार की आरज़ू अब खो

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न सीकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है..!

Badi Aarzoo Thi

Badi Aarzoo Thi Mohabbat Ko Benaqab Dekhne Ki,
Dupatta Jo Sarka To Zulfein Deewar Ban Gayi.

बड़ी आरज़ू थी मोहब्बत को बेनकाब देखने की,
दुपट्टा जो सरका तो जुल्फें दीवार बन गयी।

Aane Laga Hayaat Ko

Aane Laga Hayaat Ko Anjam Ka Khayal,
Jab Aarjuyein Failkar Ik Daam Ban Gayin.

आने लगा हयात को अंजाम का ख्याल,
जब आरजुएं फैलकर इक दाम बन गयीं।

Aisa Bhi Kuchh Hua Hota

Ye Aarzoo Thi Ke Aisa Bhi Kuchh Hua Hota,
Meri Kami Ne Tujhe Bhi Rula Diya Hota,
Main Laut Aata Tere Paas Ek Lamhe Mein,
Tere Labon Ne Mera Naam To Liya Hota.

ये आरज़ू थी के ऐसा भी कुछ हुआ होता,
मेरी कमी ने तुझे भी रुला दिया होता,
मैं लौट आता तेरे पास एक लम्हे में,
तेरे लबों ने मेरा नाम तो लिया होता।

Aarzoo Sirf Tumhara Sath

Ye Tere Ishq Ka Kitna Haseen Ehsaas Hai,
Lagta Hai Jaise Tu Har Pal Mere Paas Hai,
Mohabbat Teri Deewangi Ban Chuki Hai Meri,
Ab Zindagi Ki Aarzoo Sirf Tumhara Sath Hai.

ये तेरे इश्क का कितना हसीन एहसास है,
लगता है जैसे तू हर पल मेरे पास है,
मोहब्बत तेरी दीवानगी बन चुकी है मेरी,
अब जिंदगी की आरजू सिर्फ तुम्हारा साथ है।

आरज़ू हिंदी शायरी

जरूरी नहीं ये बिल्कुल कि तू
मेरी हर बात को समझे…
आरजू बस इतनी है कि तू मुझे कुछ तो समझे…!!!

Aarzoo Hindi Shayari

ख़ामोश सा शहर और गुफ़्तगू की आरज़ू ।
हम किससे करें बात, कोई बोलता ही नही ।।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *