8 April, 2020
Alfaaz

Alfaaz Shayari – Alfaaz Hindi Shayari | अल्फ़ाज शायरी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Khamosh Se Alfaaz

Ye Jo Khamosh Se Alfaaz Likhe Hai Na,
Padna Kabhi Dhyan Se Cheekhte Kamaal Hai…

ये जो खामोश से अलफ़ाज़ लिखे है न,
पड़ना कभी ध्यान से चीखते कमाल है।

Kuchh Apni Sunata Hun

Ab Ye Na Puchhna Ke Main Alfaaz Kahan Se Lata Hun,
Kuchh Churata Hun Dard Dusron Ke Kuchh Apni Sunata Hun.

अब ये न पूछना के मैं अलफ़ाज़ कहाँ से लाता हूँ,
कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के कुछ अपनी सुनाता हूँ।

Alfaaz Shayari

Alfaaz Shayari

Alfaaz Churane Ki Jarurat

Alfaaz Churane Ki Humein Jarurat Hi Na Padi Kabhi,
Tere Be Hisab Khayalon Ne Be Hatasha Lafz Diye.

अलफ़ाज़ चुराने की हमें जरुरत ही ना पड़ी कभी,
तेरे वे हिसाब ख्यालों ने वे हतासा लफ्ज दिए।

Mein Alfaaz Likhta Hoon

Kalam Chalti Hai To Dil Ki Aawaaj Likhta Hoon,
Gam Aur Judai Ke Andaaz-E-Bayaan Likhta Hoon,
Rukte Nahin Hain Meri Aankhon Se Aansoo,
Main Jab Bhi Uski Yaad Mein Alfaaz Likhta Hoon.

कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ,
गम और जुदाई के अंदाज़-ए-बयां लिखता हूँ,
रुकते नहीं हैं मेरी आँखों से आंसू,
मैं जब भी उसकी याद में अल्फाज़ लिखता हूँ।

Wo Alfaz Parhte Hain

Meri Shayari Ka Asar Un Par Ho Bhi To Kaise Ho?
Ke Main Ehsaas Likhta Hun Wo Alfaz Parhte Hain.

मेरी शायरी का असर उन पर हो भी तो कैसे हो ?
के मैं अहसास लिखता हूँ वो अल्फाज़ पड़ते हैं।

Ghazal Chand Alfaazon Me

Simat Gayi Meri Ghazal Bhi Chand Alfaazon Me,
Jab Usne Kaha Mohabbat To Hai Par Tumse Nahi.

सिमट गई मेरी गजल भी चंद अलफ़ाजो में,
जब उसने कहा मोहब्बत तो है पर तुमसे नहीं।

Alfaaz To bahut Hai, shayari

Alfaaz To bahut Hai Mere dard Bayaan Karne K Liye..
Mere Dost
Par jo Meri Khaamoshi Ko nahi Samajh saka..
Wo Mere Alfaaz Ko Kya Samjhega..

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *