Thursday, September 23, 2021
HomeShayari196 Breakup Shayari in Hindi For Boyfriend/Girlfriend

196 Breakup Shayari in Hindi For Boyfriend/Girlfriend [ब्रेकअप शायरी]

Breakup Shayari Boy

151. मुझे कोई फर्क नही पडता,
तुम मुझसे प्यार करते हो या नफरत,
अगर प्यार करते हो तो मै तुम्हारे दिल मे हुँ,
और नफरत करते हो तो दिमाग मे हुँ…

152. ना कर तमन्ना तू किसीको पाने की,
बडी बेदर्द निगाहे है इस जमाने की,
खुद को बनाले काबिल इस कदर की,
रखे लोग तमन्ना सिर्फ तुझे पाने की…

153. किसी से सिर्फ उतना ही दूर होना,
की उसे आपकी एहमीयत का एहसास हो जाये,
लेकीन कभी इतना भी दूर मत होना,
की वो आपके बिना जीना सीख जाये…

154. जिंदगी हमारी युही सितम हो गई,
खुशी ना जाने कहा दफन हो गई,
लिखी खुदा ने मोहब्बत सबकी तकदीर मे,
जब हमारी बारी आयी तो स्याही खत्म हो गई…

155. जिंदगी ने सवाल बदल डाले,
वक्त ने हालत बदल डाले,
हम तो आज भी वही है जहाँ कल थे,
बस उन्होंने अपने जज्बात बदल डाले…

156. जरुरी नही की इंसान प्यार की मुरत हो,
सुंदर और बेहद खुबसुरत हो,
अच्छा तो वही इंसान है जो तब आपके साथ हो,
जब आपको उसकी जरुरत हो…

157. मुझे छोडकर वो खुश है,
तो शिकायत कैसी,
अब मै उन्हें खुश भी न देखू,
तो मोहब्बत कैसी…

158. जिंदगी सुंदर है पर जीना नही आता,
हर चीज मे नशा है पर पीना नही आता,
सब मेरे बगैर जी सकते है,
बस मुझे ही किसी के बगैर जीना नही आता…

159. बिना दर्द के आँसू बहाये नही जाते,
बिना प्यार के रिश्ते निभाए नही जाते,
ज़िंदगी मे एक बात याद रखना,
किसी को रुलाकर अपने सपने सजाये नही जाते…

160. जिस के लिए सब कुछ लूटा दिया हमने,
वो कहते है उनको भुला दिया हमने,
गए थे हम उनके आँसू पोछने,
इलजाम दे दिया की उनको रुला दिया हमने…

161. हर मुलाकात पर वक्त का तकाज़ा हुआ,
हर याद पे दिल का दर्द ताजा हुआ,
सुनी थी सिर्फ हमने गज़लों मे जुदाई की बातें,
अब खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ…

162. नजर से दुर है दिल से दुर मत करना,
हम जैसे है वैसे ही कबूल करना,
हम मे लाख बुराइयाँ सही,
इन्ही बुराइयों के बहाने हमे याद जरूर करना…

163. दिल तोडने वालो को सजा क्यो नही मिलती,
हर किसी को प्यार मे सफलता क्यो नही मिलती,
लोग कहते है इश्क तो एक बिमारी है,
तो फिर मेडीकल स्टोर मे इसकी दवा क्यो नही मिलती…

164. तुम बिन अकेले जीना नही आता,
दर्द जो तुम मुझे देना चाहते हो,
दर्द वो मुझे सहना नही आता,
तुम तो रह लो गे साथ किसी और के,
मगर मुझे किसी और के साथ रहना नही आता…

165. मै इस काबील तो नही की कोई मुझे अपना समझे,
मगर इतना यकीन है,
कोई अफसोस जरूर करेगा मुझे खो देने के बाद…

166. मै वह नही के शादी हो और बदल गया,
मेरा वही मिजाज वही जौक होगा,
शादी से पहले भी मुझे शादी का शौक है,
शादी के बाद भी मुझे शादी का शौक होगा…

167. हर कोई किसी की मजबूरी नही समझता,
दिल से दिल की दुरी नही समझता,
कोई तो किसी के बिना मर मर के जीता है,
और कोई किसी को याद करना भी जरूरी नही समझता…

168. नही रहता कोई शख्स,
अधुरा किसी चीज के पीछे,
वक्त गुजर ही जाता है,
कुछ पा कर भी कुछ खो कर भी…

169. एक अजीब दास्तान है मेरे अफसाने की,
मैने पल पल कोशिश की उसके पास जाने की,
किस्मत थी मेरी या साजिश थी ज़माने की,
दूर हुए इतना जितनी उम्मीद थी करीब आने की…

170. हो सकता है हमने अनजाने में आपको कभी रुला दिया,
आपने दुनिया के कहने पे हमे भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया…

171. मिल जाए कोई नया तो हमें ना भुला देना,
कोई रुलाए तुम्हे तो हमें याद कर लेना,
दोस्त रहेंगे उमर भर तुम्हारे,
तुम्हारी खुशी ना सही गम ही बांट देना…

172. बेवफा है दुनिया किसी का ऐतबार ना करो,
हर पल देती है धोका किसी से प्यार ना करो,
मिट जाओ बेशक तनहा जी कर,
पर किसी के साथ का इंतजार ना करो…

173. वो शायद इसीलिए रहते है दूर हमसे,
क्योकि उनको अपने हुस्न पर गुरुर होगा,
मगर याद रखना ये दिल तोडने वाले,
की तुमको इसका एहसास जरूर होगा…

174. खफा होने से पहले खता बता देना,
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना,
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को,
तो पहले बिना साँस लिए जीना सिखा देना…

175. कैसे भुलाया जाता है दिल से किसी को,
काश ये अदा आप हमे भी सिखा देते,
अगर युही छोड कर जाना था तो कह तो देते,
हम आपकी राहों मे पलके बिछा देते…

176. दिल के सभी हालात मुझे कहने दो,
बहते है अश्क़ तो इन्हे बहने दो बेवफाई शामिल न करो दोस्ती की राहो मे,
कम से कम दोस्ती को तो दोस्ती रहने दो…

177. हसीन चेहरे पर कभी ऐतबार ना करना,
तोड देते है दिल कभी प्यार ना करना,
है गुजारीश दोस्तों से मेरी,
मर जाओगे वह ना आएंगे,
इंतजार मे उनके अपना किमती वक्त बर्बाद ना करना…

178. सुकून अपने दिल का मैने खो दिया,
खुद को तनहाई के समुंदर मे डुबो दिया,
जो था मेरे कभी मुस्कुराने की वजह,
आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो दिया…

179. जिसने हक दिया था मुझे मुस्कुराने का,
उसे शौक हे मुझे अब रुलाने का,
जो लेहरो से छिन कर लाया था किनारो तक,
इन्तज़ार है उसे अब मेरे डुब जाने का…

180. फरेब था उनकी हँसी मे आशिक़ समज बैठे,
मौत को हम अपनी जिंदगी समज बैठे,
ये वक़्त का मजाक था या हमारी बदनसीबी,
उनकी दो बातों को हम मोहब्बत समज बैठे…

Breakup Shayari Download

181. पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम,
गलती हमसे हुई क्योकि इंसान थे हम,
आज जिन्हे हमसे नजरे मिलाने में तकलीफ होती है,
कभी उसी शख्स की जान थे हम…

182. जिस दिल मे बसा था प्यार तेरा,
वह दिल तो कब का तोड दिया,
बदनाम ना तुझे होने देंगे,
तेरा नाम भी लेना छोड़ दिया…

183. बिन बताये उसने ना जाने क्यों ये दूरी कर दी,
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी,
मेरे मुकद्दर में ग़म आये तो क्या हुआ,
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी…

184. तेरी बेवफाई पे भी मुस्कुराते हैं हम,
मुस्कुरा के अपना गम छुपाते हैं हम,
जब कभी अकेले में बात करने का मन करता है तुझसे,
तो तन्हाइयों में बैठकर तेरी यादों को पास बुलाते हैं हम…

185. ज़ख्म मेरा है दर्द मुझको होता है,
इस ज़माने मे कौन किसका होता है,
उन्हे नींद नही आती जो प्यार करता है,
पर जो दिल को तोड़ता है वह चैन से सोता है…

186. गैरों पर मरने की उनकी फितरत हो गयी,
हमारी मोहब्बत उनकी शिकायत हो गयी,
सारी दुनिया को चाहते है वो अपनाना,
बस एक मेरे ही नाम से उन्हे नफरत हो गयी…

187. वो मुझसे बिछड़ कर खुश है तो उसे खुश रहने दे..!!

188. मुझसे मिल कर उसका उदास होना मुझे अच्छा नहीं लगता…!!

189. लोग तो अपना बना कर छोड देते हैं,
कितनी आसानी से गैरों से रिश्ता जोड लेते हैं,
हम एक फूल तक ना तोड सके कभी,
कुछ लोग बेरहमी से दिल तोड देते हैं…

190. धीरे धीरे अब तेरे प्यार का दर्द कम हुआ,
न तेरे आने की ख़ुशी हुई और न जाने का गम हुआ,
जब लोग मुझसे पूछते हैं हमारी दोस्ती की दास्तान,
मैं कह देता हूँ की वो एक फ़साना था जो अब ख़त्म हुआ…

191. कुछ नही बदला उसके जाने के बाद इस जिंदगी में,
ऐ दोस्तों, बस कल जिस जगह दिल हुआ करता था आज वहा दर्द होता है..!!

192. क्या पता था प्यार करके दिल तोड़ जाएगी,
दिल में प्यार भर के मुह मोड़ जाएगी,
ऐ बेवफा… तू जिससे भी दिल लगाएगी देखना कभी चैन की साँस ना ले पायेगी.

193. परवाह करनेवाले अक्सर रुला जाते है,
अपना कहकर पराया कर जाते है,
वफ़ा जितनी भी करो कोई फर्क नहीं,
“मुझे मत छोड़ना” कहकर खुद छोड़ जाते है|

194. तन्हाई अक्सर पूछती हे हमसे,
क्या आज भी इंतजार हे उसके लौट आने का,
ये दिल मुकुर के कहता हे,
मुझे अब तक यकीन नहीं उसके चले जाने का…

195. तन्हाइयो में रोने का मजा कुछ और है,
दिलों के टुटने की वजह कुछ और है,
ना आँसु ना मौत ना ज़िंदगी,
प्यार करने वालों की सजा ही कुछ और है…

196. मुझ को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िंदगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उस के इंतेज़ार के वो जलते दिए,
कहीं भी आस-पास उस की आहट नहीं रही|

Also check:

Keep visiting our site for further more updates and do not forget to follow us on Facebook & Twitter.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Popular Articles